DelhiIndia

Bharat Bandh 26 March: किसानों का भारत बंद आज, क्‍या खुला रहेगा और क्‍या बंद, जानिए सबकुछ

Bharat Bandh 26 March 2021 News: आंदोलनकारी किसान संगठनों ने 26 मार्च को सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक 'भारत बंद' का ऐलान किया है। बाद में सांकेतिक रूप से नए कृषि कानूनों का 'दहन' भी किया जाएगा।

नई दिल्‍ली
कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठन शुक्रवार (26 मार्च) को ‘भारत बंद’ करेंगे। संयुक्‍त किसान मोर्चा के मुताबिक, किसान आंदोलन के 120 दिन पूरे होने पर ‘भारत बंद’ किया जा रहा है। हजारों की संख्‍या में किसान दिल्‍ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। कांग्रेस, लेफ्ट, समेत कई विपक्षी दलों ने बंद का समर्थन किया है। किसान संगठनों ने ऐलान किया है कि 28 मार्च को वे होलिका दहन पर नए कानूनों की प्रतियां जलाएंगे। 26 मार्च को भारत बंद के दौरान, 12 घंटों के लिए देश में क्‍या-क्‍या खुला रहेगा और क्‍या बंद, आइए जानते हैं।

  1. भारत बंद कब और कितने समय के लिए है?
    किसान संगठनों का भारत बंद 26 मार्च 2021 की सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक रहेगा।
  2. भारत बंद का कहां-कहां असर होगा?
    संयुक्त किसान मोर्चा के अनुसार, 26 मार्च को ‘संपूर्ण रूप’ से भारत बंद रहेगा। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि जिन राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में चुनाव होने हैं, उन्हें 26 मार्च को भारत बंद से अलग रखा जाएगा। पिछली बार उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड को छूट दी गई थी। इस बार किसान नेता दावा कर रहे हैं कि 26 मार्च को दिल्ली के अंदर भी भारत बंद का प्रभाव देखा जाएगा।
  3. भारत बंद में क्‍या-क्‍या बंद रहेगा?
    इस दौरान, रेल और सड़क यातायात को बाधित करने की योजना है। दुकानों और डेयरी जैसी जगहों को बंद रखा जाएगा। सुबह 6 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक, सार्वजनिक स्‍थलों को भी बंद रखा जाएगा।
  4. भारत बंद के दौरान क्‍या-क्‍या खुला रहेगा?
    किसान नेताओं के अनुसार, किसी कंपनी या फैक्‍ट्री को नहीं बंद कराया जाएगा। पेट्रोल पंप, मेडिकल स्‍टोर, जनरल स्‍टोर जैसी जरूरत की जगहें खुली रहेंगी।
  5. पिछली बार क्‍या हुआ था?
    26 जनवरी के दिन दिल्ली में हुई हिंसा के कुछ दिन बाद ही चक्‍का जाम की घोषणा की गई थी। हालांकि गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन का नेतृत्व कर रहे राकेश टिकैत ने किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल से साथ बैठक की। उसके बाद ये कहा गया कि उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में ऐसा नहीं किया जाएगा। पिछली बार असर उतना ज्‍यादा देखने को नहीं मिला था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker