Delhi

जेएनयू पहुँचीं दीपिका, पर उन्होंने कहा क्या?

फ़िल्म अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने मंगलवार शाम दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में प्रदर्शन कर रहे छात्रों के बीच पहुँचकर सबको हैरान कर दिया.

दीपिका क़रीब साढ़े सात बजे विश्वविद्यालय परिसर में पहुँचीं. वे कुछ देर वहाँ एकत्रित छात्रों के बीच खड़ी रहीं और विदा होने से पहले उन्होंने जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष से मुलाक़ात की जिन्हें रविवार शाम नक़ाबपोशों के हमले में चोटें आई थीं.

दीपिका ने वहाँ जुटे छात्रों और अध्यापकों को संबोधित तो नहीं किया मगर सोशल मीडिया पर उनकी जो तस्वीरें वायरल हुई हैं, उन्होंने एक साफ़ संदेश दिया है.

दीपिका के इस फ़ैसले से नाराज़ बहुत से लोग सोशल मीडिया पर लिख रहे हैं कि वे उनकी आने वाली फ़िल्म ‘छपाक’ नहीं देखेंगे.

कुछ बीजेपी नेताओं ने भी #BoycottChhapaak के साथ छपाक का बहिष्कार करने की अपील की है.

लेकिन सोशल मीडिया पर उन लोगों की संख्या अधिक है जो दीपिका के इस फ़ैसले का समर्थन कर रहे हैं. बुधवार सुबह #ISupportDeepika भारत के टॉप ट्विटर ट्रेंड्स में है.

दीपिका पादुकोण

इस मुद्दे पर दीपिका ने कुछ कहा भी?

मंगलवार को दीपिका अपनी फ़िल्म छपाक के प्रचार के लिए दिल्ली में थीं. इस दौरान उन्होंने कई मीडिया समूहों से बात की.

इसी दौरान टीवी न्यूज़ चैनल आज तक को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि ‘देश में जो कुछ हो रहा है, उसे देखकर उन्हें तकलीफ़ होती है’.

दीपिका से पूछा गया था कि ‘देश के कई विश्वविद्यालयों में इस वक़्त हम सरकार के ख़िलाफ़ खुलकर प्रदर्शन देख रहे हैं. कई फ़िल्मी सितारों ने इस पर बेबाकी से बात की है. आपका इस पर क्या नज़रिया है?’

इसके जवाब में दीपिका ने कहा, “इस बारे में मुझे जो कहना था वो मैंने दो साल पहले कह दिया. जब फ़िल्म पद्मावत रिलीज़ हो रही थी, उस वक़्त जो मैं महसूस कर रही थी, मैंने उसी वक़्त कह दिया था. अब जो मैं देख रही हूँ, मुझे बहुत दर्द होता है. ये दर्द इसलिए क्योंकि लोग जो देख रहे हैं, उसे सामान्य ना मानने लग जाएं. ये ‘न्यू नॉर्मल’ ना बन जाए. कि कोई भी कुछ भी कह सकता है और उसका कुछ नहीं बिगड़ेगा. तो डर भी लगता है और दुख भी होता है. मुझे लगता है कि हमारे देश की जो बुनियाद है, वो ये तो ज़रूर नहीं है.”

दीपिका पादुकोणइमेज कॉपीरइटVIACOM18 MOTION PICTURES

‘दो साल’ पहले हुआ क्या था?

जनवरी 2017 में फ़िल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली पर जयपुर (राजस्थान) के जयगढ़ क़िले में कुछ लोगों ने हमला किया.

उन्होंने उनकी फ़िल्म पद्मावत के सेट को तोड़ा और भंसाली और उनकी पूरी टीम के साथ हाथापाई की. राजस्थान की करणी सेना ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली.

फ़िल्म में मुख्य किरदार निभाने वाले तीनों अदाकार, रणवीर सिंह, शाहिद कपूर और दीपिका पादुकोण को चोट नहीं लगी, पर अपने निर्देशक के साथ हुई हिंसा की उन्होंने खुलकर निंदा करते हैं.

दीपिका ने उस वक़्त ट्विटर पर लिखा था, “भंसाली पर हुए हमले से हैरान भी हूँ और निराश भी. फ़िल्म पद्मावत से जिन लोगों को शिक़ायत है, मैं उन्हें यह विश्वास दिलाना चाहूँगी कि फ़िल्म के लिए इतिहास को तोड़ा-मरोड़ा नहीं गया है. हमारा मक़सद किसी को नीचा दिखाना नहीं है. बल्कि हम एक शक्तिशाली और साहसी महिला की कहानी दुनिया को बताना चाहते हैं.”

दीपिका पादुकोणइमेज कॉपीरइटTWITTER

पर फ़िल्म बना रही टीम की ओर से आये ऐसे अन्य बयानों के बाद भी करणी सेना विरोध करती रही. फ़िल्म पद्मावत के पोस्टर जलाए गए, धमकियाँ दी गईं कि फ़िल्म को रिलीज़ नहीं होने दिया जाएगा.

लेकिन दीपिका का गुस्सा उस समय फूट पड़ा जब गुजरात के सूरत शहर में रंगोली बनाने वाले एक कलाकार को पीटा गया. यह घटना अक्तूबर 2017 में हुई थी.

फ़िल्म पद्मावत का पोस्टर जारी होने के बाद इस कलाकार ने एक रंगोली बनाने की शुरुआत की थी, तभी उनपर करणी सेना और विश्व हिंदू परिषद के कुछ लोगों ने हमला किया.

दीपिका पादुकोणइमेज कॉपीरइटTWITTER

इस घटना की तस्वीरें शेयर करते हुए 18 अक्तूबर 2017 को दीपिका ने ट्वीट किया था, “आर्टिस्ट करण और उनके आर्ट-वर्क पर हुए हमले की ख़बर सुनकर दिल टूटा. यह भयावह है, घिनौना है. ये कौन लोग हैं? इन घटनाओं के लिए कौन ज़िम्मेदार है? और कब तक हम ऐसी घटनाओं को होने देंगे? ये लोग क़ानून को हाथ में लेते रहें और हमारी बोलने की आज़ादी पर हमला करते रहें. वो भी बार-बार. इसी रोकना होगा. अभी. और इसके ख़िलाफ़ एक्शन ज़रूरी है.”

अपने इस ट्वीट में दीपिका ने केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी को भी टैग किया था.

इस घटना के बाद गुजरात पुलिस ने पाँच लोगों को गिरफ़्तार भी किया था. सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा ने बताया था कि गिरफ़्तार किये गए पाँच लोगों में से चार करणी सेना और एक वीएचपी से संबंधित हैं.

दीपिका के लिए कितना रिस्क?

सोशल मीडिया पर काफ़ी लोगों ने लिखा है कि दीपिका ने अपनी फ़िल्म रिलीज़ होने से पहले ऐसे विवाद में पहुँचकर बड़ी हिम्मत दिखाई है.

बड़े राजनीतिक मुद्दों पर चुप्पी बनाए रखने के लिए फ़िल्म कलाकारों की आलोचना होती रही है. मौजूदा विवाद पर भी कई बड़े फ़िल्मी सितारों ने अब तक कोई टिप्पणी नहीं की है.

फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने ट्वीट किया है, “दीपिका के लिए एक एक्टर के तौर पर ही चीज़ें दाव पर नहीं लगी हैं. दीपिका छपाक फ़िल्म की निर्माता भी हैं. ऐसे में तो ये और भी बड़ी बात है. पर उन्होंने दिलेरी दिखाई.”

फ़िल्म अदाकारा रिचा चड्ढा, स्वरा भास्कर, लीसा रे, पूजा भट्ट, सुधीर मिश्रा और अनुभव सिन्हा ने भी दीपिका की प्रशंसा की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार

  • जेएनयू प्रशासन हिंसा और विवाद पर क्या कह रहा है?
    7 जनवरी 2020
  • जेएनयू हमला: क्या भारत अपने नौजवानों की नहीं सुन रहा?
    7 जनवरी 2020
  • जेएनयू में हिंसा का राज़ व्हाट्सएप इनवाइट लिंक में?
    6 जनवरी 2020
  • जेएनयू हिंसा: दिल्ली पुलिस पर पूर्व पुलिस अधिकारी ही उठा रहे हैं सवाल?
    7 जनवरी 2020

टॉप स्टोरी

ईरान के सरकारी टीवी ने जारी किया मिसाइल हमले का वीडियो

ईरान ने इराक़ में अमरीकी वायुसेना के दो ठिकानों पर हमला किया है. हमले में हुए नुक़सान का अभी तक कोई ब्यौरा नहीं आ पाया है. ईरान ने कहा है कि ये हमला जनरल सुलेमानी की मौत का जवाब है.

3 घंटे पहले

ईरान में यूक्रेन का विमान गिरा,170 की मौत

20 मिनट पहले

हमले के बाद कच्चे तेल की क़ीमत में उछाल

1 घंटा पहले

ज़रूर पढ़ें

जेएनयू हिंसा

क्या भारत नौजवानों की नहीं सुन रहा?

डोनल्ड ट्रंप, हसन रूहानी

ईरान-अमरीका में जंग हुई तो भारत का क्या होगा?

दिल्ली पुलिस

दिल्ली पुलिस पर क्यों उठ रहे हैं सवाल?

जेएनयू में हिंसा का राज़ व्हाट्सएप इनवाइट लिंक से खुला

जेएनयू में हिंसा का राज़ व्हाट्सएप में?

चीफ़ जस्टिस एस ए बोबडे

सबरीमला मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने बेंच बनाई

जर्मन छात्र

भारत छोड़ने के लिए कहा गया: जर्मन छात्र

एक प्रदर्शनकारी

N

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker